Surahi

  प्यारी सुराही, बचपन में, पेप्सी, कोक, या फैंटा के रंगीन जाल से दूर, अगर कोई पेय सचमुच तरोताज़ा कर देता था तो वो था सुराही का ठंडा पानी. मिट्टी की वो भीनी-भीनी खुशबु लिए, जैसे ही ठन्डे पानी का […]

Continue Reading

China Pen

प्यारे चाइना पेन, आज यकीन नहीं होता कि एक समय ऐसा भी था, जब चाइना की कोई वस्तु उत्कृष्टता का प्रतीक मानी जाती थी. उसका आपके पास होना आपकी ‘फाइन टेस्ट’ को दर्शाता था. जी हाँ, हम बात कर रहे […]

Continue Reading

Alarm Clock

    प्यारी अलार्म क्लॉक स्टील से बनी, गोल आकार की, घनघना कर बजने वाली हो या प्लास्टिक से बनी, चौकोर, टिकी-टिकी टिकी-टिकी कर बजने वाली, अलार्म घड़ी कभी हर घर में हुआ करती थी. रात में सोने से पहले […]

Continue Reading

Haath Se Bana Sweater

प्यारे हाथ से बने स्वेटर, तुम्हारा नाम लेते ही भरी सर्दी में भी एक प्यार भरी गर्माहट दिल पर छा जाती है. मानता हूँ, दिन भर मॉल से खरीदा ऊँचे ब्रांड का महंगा स्वेटर पहने घूमता हूँ. उसकी चमक लाजवाब […]

Continue Reading

Diwali Ke Pakwan

प्यारे दिवाली के पकवान, चाहे पेटू कह लो, पर मुझे मानने में कोई संकोच नहीं कि मुझे दिवाली का सबसे ज़्यादा इंतज़ार तुम्हारे कारण ही रहता था. दिवाली के दस्तक देते ही घर की महिलाओं में अजब सा उत्साह दौड़ […]

Continue Reading

School Ka Tiffin Box

  प्यारे स्कूल के टिफ़िन बॉक्स, स्कूल में लंच ब्रेक की घंटी बजने से पहले ही तुम्हारे बंद खानो में छिपे खाने का राज़ सोचते सोचते मन तरह-तरह के खयाली पुलाव पकाने लगता था। टीचर क्लास से कब निकले, घंटी […]

Continue Reading

Photo Studio

  प्यारे स्टूडियो फ़ोटोज़, हर घर में, अलमारी के ऊपर या पलंगपेटी के अन्दर दबे फैमिली अलबम में, तुम्हारा बसेरा है. हमारी कितनी ही रंगीन यादें तुम्हारी पीले पड़ चुके टेक्सचर से जुडी हुई हैं. जन्मदिन हो, नई-नवेली शादी हुई […]

Continue Reading

ये ज़मीन ये आसमां….हमारा कल, हमारा आज….हमारा बजाज

  प्यारी बजाज स्कूटर, ये ज़मीन ये आसमां….हमारा कल, हमारा आज….हमारा बजाज! तुम्हारा नाम पढ़ते ही कौन ऐसा होगा जिसके मन में यह गीत नहीं गूंजता होगा. एक समय था जब शहरों, गांवों, कस्बों, हर कहीं तुम्हारा राज था. तुमने […]

Continue Reading

Silai Machine

[AdSense-A]   प्यारी सिलाई मशीन, माँ ने बड़े प्यार से सिले थे कुछ सपने तुम पर…इठलाते-फिरते थे हम जिन्हें पहनकर….वो फ्रॉक, वो झबले वो, वो बनियान, बुश शर्ट…आज भी उनकी नरमाहट याद आती है. घर के कोने में उषा, सिंगर, […]

Continue Reading

Bachpan Ki Barish

[AdSense-A]     [AdSense-A] प्यारी बचपन की बारिश, खिड़की के बाहर रिमझिम बारिश…हाथ में कॉफ़ी का प्याला…सामने प्लेट से उठती गरमागरम भजियों की खुशबू…रेडियो पर चलता ‘इक लड़की भीगी भागी सी’ गाना…बारिश का मौसम कितना ऑसम होता है ना! उठकर […]

Continue Reading